Book Detail

Koun Jeeta Aur Kyu ?
Koun Jeeta Aur Kyu ?

Ebook : 100 INR     Paperback : 199 INR

5
8 Reviews

ISBN : 978-93-86163-86-8

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
शिक्षा के अंन्तिम पडाव पर चल रहे कुछ लडके और लडकियाॅ जो अपने प्यार, व्यापार और रोजगार को लेकर योजनायें बनाते है, उन पर चलते भी है। सबकी अपनी अपनी मंजिल है, अपनेे अपने लक्ष्य है और अपने लक्ष्य को पाने के तरीके भी अलग अलग है। जीवन के प्रति सबका अलग अलग अपना नजरिया है, अलग अलग सिंद्धान्त है, भले ही सिंद्धान्त अलग है विचारो में मतभेद है फिर भी सब आपस मे सहयोग करते है। कभी सफल होते है, कभी असफल, जब सफल होते है तो सफलता के सूत्रो की समीक्षा करते है, जब असफल होते है तो मंथन करते है कि कमी कहाॅ रह गई।
मध्यम वर्गीय परिवार के विद्यार्थी जीवन पर आधारित, हल्के फुल्के हास्य, नोकझोक के साथ यह कहानी सफलता के सूत्रो को बताती है। यह कहानी सिखाती है कि मंजिल कुछ भी हो, लक्ष्य कैसा भी हो, सफलता के मूल सिंद्धान्त कभी नही बदलते। इन सिंद्धान्तो की लडाई मे कौन सा सिंद्धान्त जीतेगा और क्यों जीतेगा, इसी की कहानी है कौन जीता और क्यांे ।

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

ISBN : 978-93-86163-86-8

Number of Pages : 210

Weight : 220 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(58 GSM)

Language : Hindi

Category : Fiction

Uploaded On : September 15,2016

Partners : pustakmandi.com , Amazon , Snapdeal , Payhip , Smashwords , Paytm , Flipkart , shopclues

भैतिक विज्ञान से परास्नातक लेखक उत्तर प्रदेश मे राजकीय सेवा मे कार्यरत है परिवार सहित महोबा उ0 प्र0 मे रह रहे। है इनके लेख, कहानियाॅ, कविताये कई स्तरीय पत्र-पत्रिकाओ में प्रकाशित हो चुकी है। इनका एक नाटक, ‘साधना: अनुसंधान से संधान तक’ साहित्य एवं कला परिषद् से प्रंशसित है। आप ‘आर्यनः एक अलौकिक योद्धा’ और अपने ब्लाग होप एंड ‘सक्सेस बी पोजीटिव’ से ख्याति प्राप्त लेखक है। आपका अगला उपन्यास ‘पारो के दीये’ शीघ्र ही पढने के लिये उपलब्द्ध होगा।
Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
Paperback
179 INR / $
Paperback
220 INR / 3.28 $
Paperback
250 INR / 3.76 $
Ebook
100 INR / 1.50 $
Ebook
100 INR / 1.50 $
Paperback
220 INR / 3.29 $
Paperback
225 INR / 3.36 $
Paperback
210 INR / 3.11 $
Customer Reviews
  • Aslam Khan

    i have booked my copy...sir

  • Radhika Mishra

    मै तो आप की प्रशंसक आर्यन को पढ़ने के बाद से ही हूँ आपके लेखन में पाठक को मुग्ध करने की क्षमता है मुझे कौन जीता और क्यों का ब्रेसब्री से इन्तजार है

  • Pratiksha Mishra

    Amazing writer. i know you for AARYAN - EK ALOKIK YOUDHA. Once you start reading him, can not stop yourself till end the book. you are great sir.

  • Kranti Verma

    Many many congratulation sir. this book will create history. i have order my book and very eager to read this one. the way you write is really great.

  • abhay sharma

    Once you get started reading this book u cant stop yourself untill u finish it .really hats off u sir

  • Shubhra Singh

    i am also wating for it

  • ADITYA SHARMA

    I am following him on facebook and know him for his page AARYAN EK ALOKIK YODHA. He is mindblowing writer. Waiting for this KON JEETA AUR KYU? .....SIR YOU ARE GREAT.

  • Ashish sharma

    Interesting way to motivate. I have heard a lot about this book and waiting for this. When will this book be available for reading.

Ebook : 100 INR

Embed Widget