Book Detail

Deepika
Deepika

Ebook : 50 INR     Paperback : 143 INR

Not Reviewed

ISBN : 978-81-921311-39

Availability: In Stock

Check Availability At
Choose Binding Type

Quantity

कच्ची उम्र का प्यार, जो आंधियो और तूफानों की तरह हर टीन-ऐज लड़के या लड़की की जिंदगी में दस्तक देता है । ऐसा ही एक 16 साल का लड़का है या यूँ कहें की ऐसा हर एक लड़का है । उसे भी प्यार हो जाता है इंग्लिश की कोचिंग क्लास में उसके साथ पढ़ने वाली 15 साल की दीपशिखा से । उसे पहली नज़र में ही दीपशिखा से प्यार हो चुका था, लेकिन दीपशिखा से उसका नाम पूछने भर की हिम्मत जुटाने में ही उसे 2 हफ्ते लग जाते है । ऐसे में वो दीपशिखा के करीब जा पाता है ? उसे अपने दिल की बात कह पाता है ?वो डेट पर नहीं जाते, न फ्लर्ट करते है और यहाँ तक कि कभी रोमांटिक बातें भी नहीं करते है! तो जानना चाहते है वो लड़का उस लड़की से कैसे प्यार करता है! इसके लिए इस उपन्यास का बस ये एक अंश पढ़के देखिए......... ''मैंने नज़र घुमाकर देखा. वह दीपशिखा ही थी. मेरी तरफ देखकर उसने एक मुस्कराहट दी. उसकी उस मुस्कान में शुक्रवार वाली उदासी कहीं खो गई थी. मुझे लगा वह दूसरी वाली पंक्ति में सबसे पीछे लगी बैंच पर बैठ जाएगी, जो खाली थी. लेकिन वह सीधे बेझिझक मेरे पास रखे स्टूल पर अपने सलवार-सूट की चुन्नी सँभालते हुए बैठ गई. हल्की बादामी रंग की कुर्ती पर गहरे बादामी रंग के फूल बने हुए थे. उसके नीचे उसकी उसी गहरे बादामी रंग की चूड़ीदार सलवार पर पैर के पंजे के ऊपर पड़ी चूड़ियां या सलवटें उसके शरीर को मदहोश-सा बना रही थी.उसके गोर पैरों में पड़ी काली रंग की साधारण सेंडल भी आकर्षक लग रही थी. कन्धों पर डाली गहरे बादामी रंग की चुन्नी थोड़ी-थोड़ी देर में अपनी उपस्तिथि दर्ज करके अपनी जगह से हटी जा रही थी. उसके बाल आज सबसे ज्यादा अच्छी तरह गुंथे हुए लग रहे थे. आज उसने अपने बालों में तारनुमा काले रंग का हेयर बेन्ड माथे के ऊपर के बालों पर लगाया था, जो उसके काले बालों में ग़ुम होता सा लग रहा था. उसके चेहरे का निखार आज अपने चरम पर था, और उन सब पर भारी थी, उसके चेहरे से जा चुकी उदासी. मैंने उसे अपने पास बैठने के लिए सही तरीके से जगह दी . अपने स्टूल को थोड़ा बाँई तरफ खिसकाते हुए उसकी तरफ ध्यान से देखा और फिर अपने स्टूल पर बैठकर एक लम्बी आह भरी साँस खींचते हुए आँख बंद कर एक छोटी-सी सोच में मुस्कराते हुए खो गया. मैं दीपशिखा के मुकाबले इतना अच्छा नहीं दिखता था, ऐसे में मेरे दिमाग में बार-बार प्रश्न उठे क़ि क्या वह मुझसे कहीं-न-कहीं आकर्षण महसूस करती है?.................!'' कॉफ़ी हाउसेस, बड़े शहरों, बाइक-राइडर्स, डेट्रस, फ्लहर्टिंग-शर्टिंग के बंद कमरों से बाहर आकर ये टीन-ऐज लव-स्टोरी तपती गर्मी में तपती है, बारिशों में भीगती है, लहरों की तरह आपके दिलों के किनारों पर आकर उसे भिगो जाती है । वो खामोश भी रहती है और बहुत कुछ बोल भी जाती है.......

Publisher : Rigi Publications

Edition : 1

ISBN : 978-81-921311-39

Number of Pages : 219

Weight : 300 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(58 GSM)

Language : Hindi

Category : Romance

Uploaded On : July 2,2016

Partners : Payhip , ezebee.com , Flipkart , Snapdeal , Paytm

Ankur Navik is the young 20 years old Journalism student, Hindi story-writer, poet and song writer situated in Mhow, Dist.-Indore, Madhya Pradesh, India He started writing poetries and fictions at the age of 12. His poetries, stories and short stories were start publishing in news-paper and magazines from the age of 14. Today his above 100 poetries and stories have published in many Hindi national and local Hindi news papers and magazines like- 'Bal-Bharti', 'Mukta','Hum-Tum' (Rajasthan patrika) ,'Hans', 'Vyangya-Yatra' etc. He wants to become Bollywood lyricist, Script writer and well known Hindi writer and Poet. Arjun Mehar was born on 30th August 1993 at Bamanwas, Sawai Madhopur in Rajasthan, India. His real name is "Vikas Kumar Meena". In 2012 he changed own name for write the Books. In "Sawai Madhopur" he spent fifteen years of his life before relocating to Jaipur, Rajasthan. After graduating from school, Arjun Mehar enrolled at the NIMS University, Rajasthan for B.Tech course. But he had some personal reasons, he left the NIMS University. He is presently in the third year of his college, pursuing a B.Tech degree in Civil Engineering from Rajastan Technical University. One day, he decided to try his hand at writing. Writing, for his, happened accidentally. Arjun Mehar is the author of "Dil Dosti Pyar Aur Zindgi" book. This book is too famous on Facebook. Before the release of the book a million people on Facebook liked the book's official page. It will be launch on 30 Aug. 2013. One of the youngest and the most prolific authors in the Indian fiction scene, his works are characterized by dark humour and in-your-face realism. He is seen as one of the most unabashed writers in the genre. His Sad & Love Poetry is too famous on Facebook. He is Social Worker. He is the Founder & President Of "Steps-Always With You" NGO. This NGO working in Rajasthan State. "Steps- Always With You" was formed with a mission to empower lives of the downtrodden. Their main areas of focus are children, destitute women, senior citizens and environment protection.


Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
ebook
67.48 INR / 1.00 $
Paperback
300 INR / 4.52 $
Paperback
139 INR / 2.08 $
Paperback
145 INR / 2.17 $
Paperback
210 INR / 3.13 $
Customer Reviews
  • Give Your Review Now

Ebook : 50 INR

Embed Widget