Book Detail

एक कदम आगे, दो कदम पीछे
एक कदम आगे, दो कदम पीछे

Ebook : 39 INR     Paperback : 249 INR

5
3 Reviews

ISBN : 978-93-85818-26-4

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
बहु प्रतीक्षित किताब 'एक कदम आगे, दो कदम पीछे'...

लेखक, पत्रकार और उद्यमी मिथिलेश द्वारा रचित 'एक कदम आगे, दो कदम पीछे' का ई-वर्जन और पेपरबैक आप पब्लिशर से आर्डर कर सकते हैं. राजनीतिक और सामाजिक विषयों पर आधारित इस किताब में 51 अलग मुद्दों की शिनाख्त हुई है तो समाधान भी प्रस्तुत करने की कोशिश की गयी है.

वरिष्ठ साहित्यकार व समाजशास्त्री डॉ. विनोद बब्बर एवं वरिष्ठ व्यंग्यकार अर्चना चतुर्वेदी द्वारा इस पुस्तक की भूमिका लिखी गयी है तो दुसरे साहित्यकार, शिक्षाविद, उद्योगपतियों द्वारा लेखन और लेखन के बारे में संक्षिप्त राय व्यक्त की गयी है. लखनऊ स्थित ऑनलाइन-गाथा संस्थान ने इस किताब को प्रकाशित किया है, जिसमें कुल 152 पृष्ठों में कई भारतीय मुद्दों के साथ वैश्विक राजनीति के बारे में भी विस्तृत आंकलन देखने को मिल सकेगा.
अंततः यह किताब पाठकों के हवाले हो गयी है, जो इसके बारे में बेहतर राय व्यक्त कर सकते हैं और लेखक के असल उत्साहवर्धन के लिए इससे बढ़कर कुछ और नहीं!

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

ISBN : 978-93-85818-26-4

Number of Pages : 152

Weight : 253 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(70 GSM)

Language : Hindi

Category : HISTORY & POLITICS

Uploaded On : February 2,2016

Partners : Flipkart , Smashwords , Payhip , Lulu.com , Kobo , ezebee.com , Amazon

मिथिलेश पिछले 6 साल से वेबसाइट, सोशल मीडिया के क्षेत्र में अपनी सेवायें दे रहे हैं। एक कलमकार के तौर पर लेख, कहानी, कविता इत्यादि विधाओं में निरंतर लेखन और समाज, परिवार के प्रति संवेदनशील विचार-मंथन उनकी प्रवृत्ति है। विभिन्न अख़बारों, पत्रिकाओं के संपादक-मंडल में अलग-अलग समय पर शामिल रहे हैं तो तकनीक के माध्यम को वह आज की लेखन दुनिया के लिए आवश्यक मानते हुए ब्लॉगिंग, सोशल मीडिया इत्यादि क्षेत्रों से साम्य बनाने में जुटे रहते हैं।
Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
Paperback
280 INR / 4.12 $
Paperback
280 INR / 4.12 $
Paperback
280 INR / 4.12 $
E-book, Paperback
280 INR / 4.12 $
Paperback
280 INR / 4.14 $
Paperback
249 INR / $
Paperback
300 INR / 4.43 $
Customer Reviews
  • sumit

    I had started reading it and it looks quite intresting as i am letting my thoughts sink into it on the whole great book

  • Vindhyawasini Singh

    Complete about 2015

  • Mithilesh Kumar Singh

    Must read for everyone...

Ebook : 39 INR

Embed Widget