Book Detail

Malavgadh ke maalvika
Malavgadh ke maalvika

Ebook : 45 INR     Paperback : 160 INR

4.3
5 Reviews

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
देवराला से रूपकुँवर आई और मेरे कानों में फुसफुसाई-

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

Number of Pages : 158

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(58 GSM)

Language : Hindi

Category : Fiction

Uploaded On : June 13,2015

श्रीमती संतोष श्रीवास्तव का जन्म: 23 नवम्बर मँडला ( मध्य प्रदेश) मे हुआ। तथा इनकी प्रारम्भिक शिक्षा एवं एम ए (हिन्दी) एम ए (इतिहास) बी ए (पत्रकारिता) बी एड की शिक्षा प्राप्त की ! लेखन : 1970 में धर्मयुग में पहली रचना प्रकाशित। तब से अब तक 90 कहानियाँ तथा 1000 लेख स्त्री विमर्श,धर्म,पर्यटन पर प्रकाशित की I इनकी पुस्तको के नाम इस प्रकार हैं _ कथा सँग्रह, बहके बसँत तुम,बहते ग्लेशियर,प्रेम सम्बन्धों की कहानियाँ, आसमानी आँखों का मौसम उपन्यासमालवगढ की मालविका, दबे पाँव प्यार, टेम्स की सरगम, हवा में बँद मुट्ठियाँ, न हो मोहब्बत हमारी रुसवा तथा अन्य पुस्तकों जैसे फागुन का मन (ललित निबँध सँग्रह) ,मुझे जन्म दो माँ (स्त्री विमर्श), नीले पानियों की शायराना हरारत( यात्रा सँस्मरण), नही अब और नही (विभाजन तथा साम्प्रदायिकता पर लिखी कहानियों का सम्पादित संग्रह,बाबुल हम तोरे अँगना की चिडिया(कन्या भ्रूण हत्या पर लिखी कविताओं का सम्पादित सँग्रह, अन्य भाषाओं में अनूदित पुस्तकें लिखी I
Customer Reviews
  • Rajendra Sharma

    good hindi story book

  • Mukesh Kumar

    good story book. I don't know how to order it in hard copy, please help me,

  • Sonu Singh

    really nice novel. no doubt , buy it.

  • Rejeev Khanna

    Nice hindi novel, good author

  • shubhra

    awesome

Ebook : 45 INR

Embed Widget