Book Detail

कविता गंगा खंड-3
कविता गंगा खंड-3

Ebook : 0 INR

Not Reviewed

Category: Free Ebooks

Uploaded On: May 4,2015

Embed Widget
आलोचक डॉ॰ रामविलास शर्मा का अभिमत -

कवि महेन्द्रभटनागर की सरल, सीधी ईमानदारी और सचाई पाठक को बरबस अपनी तरफ़ खींच लेती है। प्रयोग के लिए प्रयोग न करके, अपने को धोखा न देकर और संसार से उदासीन होकर संसार को ठगने की कोशिश न करके इस तरुण कवि ने अपनी समूची पीढ़ी को ललकारा है कि जनता के साथ खड़े होकर नयी ज़िन्दगी के लिए अपनी आवाज़ बुलन्द करे।

महेन्द्रभटनागर की रचनाओं में तरुण और उत्साही युवकों का आशावाद है, उनमें नौजवानों का असमंजस और परिस्थितियों से कुचले हुए हृदय का अवसाद भी है। इसी लिए कविताओं की सचाई इतनी आकर्षक है। यह कवि एक समूची पीढ़ी का प्रतिनिधि है जो बाधाओं और विपत्तियों से लड़कर भविष्य की ओर जाने वाले राजमार्ग का निर्माण कर रहा है।

महेन्द्रभटनागर की कविता सामयिकता में डूबी हुई है। वह एक ऐसी जागरूक सहृदयता का परिचय देते हैं जो अशिव और असुन्दर के दर्शन से सिहर उठती है तो जीवन की नयी कोंपलें फूटते देख कर उल्लसित भी हो उठती है।

कवि के पास अपने भावों के लिये शब्द हैं, छंद हैं, अलंकार हैं। उसके विकास की दिशा यथार्थ जीवन का चितेरा बनने की ओर है। साम्प्रदायिक द्वेष, शासक वर्ग के दमन, जनता के शोक और क्षोभ के बीच सुन पड़ने वाली कवि की इस वाणी का स्वागत

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

Number of Pages : 167

Binding Type : Ebook

Paper Type : white

Language : Hindi

Category : Free Ebooks

Uploaded On : May 4,2015

DR. MAHENDRA BHATNAGAR DR. Mahendra Bhatnagar’s is one of the significant post-independence voices in Hindi and Indian English post-independence voices in Hindi and Indian English Poetry, expressing the lyricism and pathos, aspirations and yearnings of the modern Indian intellect. Rooted deep into the Indian soil, his poems reflect not only the moods of a poet but of a complex age. Born in Jhansi (Uttar Pradesh) at maternal grandfather’s residence on 26 June 1926; 6 a.m.Primary education in Jhansi, Morar (Gwalior) and Sabalgarh (Morena); Matric (1941) from High School, Morar (Gwalior); Inter (1943) from Madhav College, Ujjain; B.A. (1945) from Victoria College, - at present, Maharani Laxmi Bai College - Gwalior; M. A. (1948) and Ph.D. (1957) in Hindi from Nagpur University; L.T. (1950 ; Madhya Bharat Govt.) Places of work — Bundelkhand, Chambal region and Malwa. High School Teacher from July 1945. Retired as Professor on 1 July 1984 (M.P. Govt. Educational service). Selected once for the post of Professor of Hindi Language & Literature, in Tashkent University, U.S.S.R. (1978) by UGC & ICCR (NEW DELHI) Principal Investigator (U.G.C. / Jiwaji University, Gwalior) from 1984 to 1987. Mahendra Bhatnagar / 213 Professor in the IGNOU Teaching Centre of Jiwaji University, Gwalior in 1992. Worked as Chairman \ Member of various committees in Indore University, Vikram University, Ujjain & Dr. Bhimrao Ambedkar University, Agra. Worked as a member in the managing committees of ‘Gwalior Shodh Sansthan’, ‘Madhya Pradesh Hindi Granth Academy’ & ‘Rashtra-Bhasha Prachar Samiti, Bhopal’. From time to time, poems included in various Text- Books of curricula of Educational Boards & Universities.
Customer Reviews
  • Give Your Review Now