Book Detail

काँटा लगा
काँटा लगा

Ebook : 29 INR

4.7
6 Reviews

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

इधर कुछ समय से कांटे की पौ-बारह है। वह सुंदियों के पैरो में लग रहा है, उनकी मांओं के पैरों में लग रहा है और उनकी भी मांओं के पैरों में लग रहा है। पैरों में ही नहीं, वह हथेलियों से, हृदयस्थलियों तक में जा लगा है। कांटा यूं तो होता ही लगने की चीज है लेकिन इतने विशाल पैमाने पर जा लगेगा, यह किसी ने नहीं सोचा था।

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

Number of Pages : 33

Binding Type : Ebook

Paper Type : white

Language : Hindi

Category : Fiction

Uploaded On : January 16,2015

Partners : Kobo

Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
Ebook
146 INR / 2.25 $
Customer Reviews
  • Madhulika Shukla

    good book

  • Pari Vikram

    this book is really good one.

  • Manisha Sahu

    काँटा लगा ek acchi kitab hai, yah hasya ras se pariporn hai .

  • Ramesh Thakur

    ha ha ha, really good book. :-D

  • Rita Rai

    i am sure, when you read this book, you will get stop yourself from laughing. good jitendra

  • Sumit Srivastava

    the book has superb quotes , great write up

Ebook : 29 INR

Embed Widget