Book Detail

Puliya per duniya
Puliya per duniya

Ebook : 49 INR     Paperback : 251 INR

4.6
7 Reviews

ISBN : 978-93-85818-21-9

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
व्हीकल फ़ैक्ट्री जबलपुर की आफ़ीसर्स मेस और फ़ैक्ट्री के बीच बनी एक पुलिया पर बैठे लोगों के विवरण हैं इस किताब में। तरह-तरह के लोग दिखे पुलिया पर। हर व्यक्ति अपने में एक अलग किरदार है। पुलिया पर बैठे लोगों से बतियाते हुये एहसास होता है कि आपाधापी भरी जिन्दगी जीते हुये हम अपने आसपास की दुनिया से कितना अपरिचित रह जाते हैं।
“पुलिया पर दुनिया” आम लोगों की रोजमर्रा की जिन्दगी का रोजनामचा है। इसकी खासियत यही है कि कोई खास व्यक्ति इसमें शामिल नहीं है। सब आम लोगों के किस्से हैं।

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

ISBN : 978-93-85818-21-9

Number of Pages : 145

Weight : 233 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(58 GSM)

Language : Hindi

Category : Nonfiction

Uploaded On : December 19,2014

Partners : Flipkart , Rockstand.in , google play , Amazon

अनूप शुक्ल






16 सितम्बर, 1963 को कानपुर (उ.प्र.) के गांव महासरन नेवादा, शिवराजपुर, में जन्म।






मोतीलाल नेहरू इंजीनियरिंग कालेज इलाहाबाद से बी.ई. (मेकेनिकल) तथा आई.टी. बी.एच.यू. से एम टेक (मशीन डिजाइन)।






सम्प्रति: भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत वाहन निर्माणी जबलपुर में अपर महाप्रबंधक।






हिन्दी ब्लॉगिंग में 2004 से सक्रिय। ब्लॉग फ़ुरसतिया एवं चिट्ठाचर्चा में 1500 से अधिक लेख प्रकाशित। विभिन्न पत्र पत्रकाओं में व्यंग्य लेख प्रकाशित। आन लाइन पलपल इंडिया में पचास से ऊपर लेख।






संपर्क: आफ़ीसर्स मेस, वाहन निर्माणीम जबलपुर। मध्यप्रदेश। पिन: 482009






मोबाइल: 9425802524
Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
Paperback
299 INR / 4.53 $
Ebook
100 INR / 1.51 $
Ebook
109 INR / 1.69 $
Paperback
280 INR / 4.14 $
Customer Reviews
  • Akanksha Verma

    i take this book for my father. after reading this book my father said that this book really touch his past, when he enjoy with friends at tea shop in evening. I am very happy to see my father happy.

  • Sonu Singh

    ha ha ha, nice book. what we do today, we didn't meet with our friends and not sharing our feeling. This book realize me what is the importance of people in our life.

  • Rajendra Sharma

    nice book

  • Devendra Sharma

    I am very happy to hear about the success of your book. Congratulations and wish you heaps of success.

  • shubhra

    i have been a part of your success anup ji :)

  • varun mishra

    nice 1

  • sumit

    superb one :)

Ebook : 49 INR

Embed Widget