Book Detail

 Intezaar
 Intezaar

Ebook : 49 INR     Paperback : 149 INR

4
1 Reviews

Availability: In Stock

Check Availability At
Choose Binding Type

Quantity

‘‘भूलना हमारे बस में नहीं,
फिर भी कोशिश को तवज्जो दिये हैं।
आथ्खों में कैद हैं सपने,
फिर भी जीने की उम्मीद किये हैं।।’’
कुछ पन्ने कभी-कभार जि़्ान्दÛी को ,ेसी तल्खी दे देते हैं कि हम
सोच भी नहीं पाते और दिल जेहन आपस में बातें करने लÛते हैं।
क्या हुआ था जो हम नसीब को कोसते चलते Ûये, क्या हुआ जो हम
,क सवाल को भी तरसते रह Ûये। सपना था Ûर तो क्यों सपना था
क्यों नहीं उसका अक्स हमारा हमसफर बन पाया। ख्यालों की दीवार
किसी लम्बी होती है, परछाईयाथ् क्यों नहीं अपनी हो पाती हैं, निÛाहों
की खुश्की को अश्क क्यों नहीं नसीब होता है, क्या ये निÛाहें फिर
से वीरान जंÛल बन जायेÛी। जिसकी दरख्ते सावन की ,क बूथ्द की
प्यासी बन जाती है सोचती है कि कोई तो ,क बूथ्द आयेÛी और हमें
अपना बना लेÛी।
आईने के साथ सपने पिरोती मनमोहक भाव में डूबी भावना उस खुशी
का इन्तजार कर रही थी जो कभी उसने सपने में देखा था।
सुबह के उÛते सूरज को देखकर सोचने लÛी न जाने कब मेरी
ज़िन्दÛी का ये अँधेरा खत्म होÛा और सुबह होÛी।
कायदे की दरो-दीवार में जकड़े मेरे ख्याल कब खुले आकाश में
साँस लेंÛे? कब कोई साया साथ रहकर भी आजादी का ,हसास
करायेÛा?
इन्तजार करना मेरी किस्मत तो नहीं जो हर ख्वाब इन्तजार का
,हसास दिलाता है।
वजूद में ,क मीठा जहर ?ाुलने लÛा है कि दिल कहता है अब बस!!
इन्तज़्ाार
पअ
सपनों को अब तो ,क साकार जमीन चाहि, कोई तो आँखों के
काजल में छुपे अश्कों को खुशी का वजूद देता और कहता ‘‘जी तो
जरा’’!!!

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

Number of Pages : 113

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(70 GSM)

Language : Hindi

Category : Poetry

Uploaded On : October 24,2018

Partners : Amazon

Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
paperback
149 INR / $
Customer Reviews
  • BHARAT LAL Vishwakarma

    Nice book

Ebook : 49 INR

Embed Widget