Book Detail

Mere Niraashrit Devata
Mere Niraashrit Devata

Ebook : 60 INR     Paperback : 195 INR

Not Reviewed

ISBN : 9789386915177

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
कलकत्ता में प्रकासशि बंगला पबिका ‘साप्िादहक विनमान’ (29th April, 2017) में ‘मेरे ननराश्रिि देविा’ की समालोचना-
हर एक माुँ के सलये उसकी सन्िान ही उसकी सबसे वप्रय होिी है। यही सन्िान, अपने नयनों का िारा यदद ऑदिक्स्िक हो िो तया गुजरिी होगी उस माुँ के ददल पर? ऐसी माुँ को ववषम पररक्स्थनियों का सामना करना पड़िा है। ऐसे सन्िान के सलये पररवार के अन्य सदस्यों को नाना प्रकार के समस्याओं और जदिलिाओं का सामना करना पड़िा है।

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

ISBN : 9789386915177

Number of Pages : 203

Weight : 300 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(70 GSM)

Language : Hindi

Category : Fiction

Uploaded On : February 9,2018

Partners : Kobo , Smashwords , Purchasekaro.com , Payhip , Kraftly

Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
Ebook
64.21 INR / 0.99 $
E-book
64 INR / 0.99 $
Paperback
195 INR / 3.04 $
E-book
64 INR / 0.99 $
Paperback
195 INR / 3.04 $
Customer Reviews
  • Give Your Review Now

Ebook : 60 INR

Embed Widget